[Notes] सहस्राब्दी विकास लक्ष्य (Millennium Development Goal-MDG)


 सहस्राब्दी विकास लक्ष्य(एमडीजी) उन आठ समयबद्ध लक्ष्यों को कहते हैं जो घोर निर्धनता का सामना करने के लिए ठोस और संख्यात्मक आधारभूत पैमानों का निर्धारण करते हैं।

विश्व नेताओं द्वारा सन् 2000 में अंगीकृत और 2015 तक हासिल करने के लिए संकल्पित, एमडीजी, वैश्विक और स्थानीय स्तर पर प्रत्येक देश के विशिष्ट विकास आवश्यकताओं के हिसाब से तय की गई है। इनमें समूचे अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक साझे लक्ष्य के लिए मिलकर काम करने की रूपरेखा दी गई है और यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया गया है कि सभी जगह और सभी लोगों को मानव विकास का लाभ मिलना चाहिए।



ये आठ लक्ष्य हैं- घोर निर्धनता और भूख का उन्मूलन, बाल मृत्युदर में कमी लाना, सार्वभौमिक प्राथमिक शिक्षा, स्त्री-पुरुष समानता को प्रोत्साहन और महिला सशक्तिकरण, मातृ स्वास्थ्य में सुधार, एचआईवी/एड्स, मलेरिया और अन्य बीमारियों का मुक़ाबला, पर्यावरणीय संपोषणीयता को सुनिश्चित करना और विकास हेतु वैश्विक सहभागिता का उन्नयन। इन लक्ष्यों को 21 अन्य ऐसे लक्ष्यों में विभाजित किया गया है जिसकी माप-तौल की जा सकती है। इनके लिए 60 संकेतक तय किए गए हैं।

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Translate